एक सोच क़हर है ढाने को,
एक सोच है जीवन पाने को,
लड़ना हर बात पर सोच है,
एक सोच है प्यार फैलाने को ।

पत्थर की मूरत सोच है,
मूरत, एक पत्थर, सोच ।
है सोच के अब तू हार गया,
एक सोच है हारा पाने को ।।

दिन का होना एक सोच है,
है सोच से रात में दिन ।
है सोच तो अग्नि भी पानी है,
पानी है सोच से आग ।।

तू अपनी सोच से आगे है,
दुनियाँ की आगे सोच,
तू सोच सोच न कर सका,
कोई करता है, एक पल सोच ।।

न तेरा कुछ, न मेरा कुछ,
सब सोच का,अब तू सोच,
है सोच अगर तू सोच सकें,
क्या तेरा ये भी सोच ?

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.