Sher-O-Shayari

एक रात बुझी लाशों को याद करें,फिर ख़ुद के होने का हिसाब करें।।