Nature

Quotes

Posts

POETRY ON NATURE

  • मुसाफ़िर

    ख़ुश्बू, ख़्वाब, ख़बर, या ख़त हो,
    कुछ तो रखकर भेज मुसाफ़िर।
    अब तक काली रात रही है,
    सुबह हुई पट खोल मुसाफ़िर।।

    Smell, dream, news, or a letter,
    Send something o’ traveler.
    It has been a dark night so far,
    Open the door it’s morning already.

    मन की माया पर मन-मंथन,
    मन का चिंतन छोड़ मुसाफ़िर।
    राहों में जो बिखर गयी है,
    उस ख़ुश्बू को सूँघ मुसाफ़िर।।

    Brainstorming on the illusion of the mind,
    Let the thoughts of the mind to rest.
    What is scattered on your path,
    smell that wonderful aroma.

    जल से जलना, हवा से मरना,
    डर से डरना छोड़ मुसाफ़िर।
    तीख़े-ताज़े ज़ख़्म इश्क़ के,
    खाकर फिर से झूम मुसाफ़िर।।

    Burning with water,
    dying of air,
    Stop being afraid of fear.
    If you get Pungent wounds of love,
    just dance for the sake of it, O’ traveler.

    मधूर-मधूर और कप्टी बातें,
    सुथर-सुथर और करवी बातें,
    दोनो में अंतर ना कोई,
    तू मन को ना मार इसी में,
    जो तेरे मन में लिपटा है,
    उस पट्टी कोई खोल मुसाफ़िर ।।

    Sweet-sweet but venomous thoughts;
    Simple-unornamented noble thoughts;
    There is no difference between the two,
    You shouldn’t kill your heart for them.
    Let your wrapped mind feel free to extend its wings and fly, O’ traveller.