उन तस्वीरों में कुछ रंग शायद बाक़ी-सा है

उन तस्वीरों में कुछ रंग शायद बाक़ी-सा है, दिलों पर सिरों का बोझ भी तनिक भाड़ी-सा है, साँस शब्दों के उलझनों से आज़ाद कहाँ है, गलियों में कोई मिलनसार कहाँ है,

चल आज वहाँ हम जंग करें ।

आँखों में आँखे डाल कर, सूरज से भी, गगन से भी, नीर, अग्न, पवन से भी, जहाँ मृत हमारी काया हो, चल आज वहाँ हम जंग करें ।